No icon

मंच पर पहुंचे भाजपा अध्यक्ष अमित शाह साथ में रेल मंत्री व सीएम योगी आदित्यनाथ

वाराणसी। देश के विशालतम रेलवे जंक्शन में शामिल मुगलसराय को एकात्मवाद के प्रणेता पंडित दीनदयाल उपाध्याय के नाम समर्पित करने के लिए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं रेलमंत्री पीयूष गोयल समेत कई दिग्गज संयुक्त रूप से रिमोट से रेलवे के इतिहास में नामकरण करने के लिए रविवार को बाबतपुर से हेलिकाप्टर पर सवार होकर एक साथ ढाई बजे चंदौली पहुंचे।रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर महेंद्र नाथ पांडे, उप मुख्यमंत्री केशव मौर्य भी मंच पर मौजूद।

आयोजन से पूर्व दोपहर में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के साथ रेल मंत्री पीयूष गोयल भी बाबतपुर स्थित अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पहुंचे। इसके बाद एयरपोर्ट के पुराने टर्मिनल भवन में स्थित वीआइपी लाउंज में बैठ कर कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। इसके थोड़ी देर बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी बाबतपुर एयरपोर्ट पर पहुंचे। इसके बाद सभी चंदौली स्थित कार्यक्रम स्थल के लिए दोपहर सवा दो बजे के बाद हेलिकाप्टर से रवाना हो गए जहां देश के विशालतम रेलवे जंक्शन में शामिल मुगलसराय को एकात्मवाद के प्रणेता पंडित दीनदयाल उपाध्याय के नाम समर्पित होगा।

रेल प्रशासन इस सुखद यादों को समेटने के लिए उत्सव सरीखे तैयारी पूर्व में ही कर चुका है। एक लाख से ज्यादा की भीड़ को इस आयोजन का साक्षी बनाने की तैयारी है। समारोह में रेलमंत्री पीयूष गोयल, रेल राज्यमंत्री व संचार राज्यमंत्री मनोज सिन्हा, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य व प्रदेश अध्यक्ष डा. महेंद्रनाथ पांडेय बाकले मैदान के मंच से रिमोट बटन दबाकर औपचारिक घोषणा करेंगे। रिमोट का बटन दबते ही जंक्शन पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन की एलईडी लाइटों से जगमगा उठेगा।

इसके साथ ही संघ परिवार समेत कई संगठनों का सपना अरसे बाद ही सही लेकिन साकार हो जाएगा। दरअसल, 1968 में 11 फरवरी को पंडित जी का शव रेलवे जंक्शन के निकट पोल संख्या 1276 के पास पड़ा मिला था। संघ परिवार में उसके बाद ही शहर एवं जंक्शन का नाम पंडित जी को समर्पित करने की सुगबुगाहट शुरू हो गई थी। 19

92 में सूबे के सीएम रहे कल्याण सिंह ने पंडित दीनदयाल नगर के नाम की घोषणा भी की थी, जो साकार नहीं हो सका।एशिया में पहचान रखने वाले यहां के विशालतम मार्शिलिंग यार्ड को स्मार्ट यार्ड, आधुनिक सिग्नल रूट रिले इंटरलाकिंग प्रणाली, स्टेशन का विकास के साथ एकात्मता एक्सप्रेस का सप्ताह में दो दिन सेवा की सौगात मिलेगी। आधी आबादी से पूर्णतया संचालित मालगाड़ी का भी शुभारंभ होगा। चंदौली के पड़ाव स्थित दीनदयाल शोध संस्थान में 63 फीट की मूर्ति का भी शिलान्यास होगा। भाजपा सरकार एवं संगठन के शीर्ष पदों पर बैठे लोगों के एक साथ मंच साझा करने से रेलवे ने बारिश की संभावनाओं के बीच व्यापक तैयारियां की हैं।

 

Comment As:

Comment (0)